Uncategorized

भारत में अब तक प्रशासित COVID-19 वैक्सीन की 20.86 करोड़ से अधिक खुराक doses

देश में प्रशासित COVID-19 वैक्सीन खुराक की संचयी संख्या 20.86 करोड़ को पार कर गई है, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा। इसने कहा कि 18-44 वर्ष के आयु वर्ग के 13,36,309 लोगों ने अपनी पहली खुराक प्राप्त की और उसी समूह के 275 लाभार्थियों को शुक्रवार को COVID वैक्सीन की दूसरी खुराक मिली।…

देश में प्रशासित COVID-19 वैक्सीन खुराक की संचयी संख्या 20.86 करोड़ को पार कर गई है, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा। इसने कहा कि 18-44 वर्ष के आयु वर्ग के 13,36,309 लोगों ने अपनी पहली खुराक प्राप्त की और उसी समूह के 275 लाभार्थियों को शुक्रवार को

COVID वैक्सीन की दूसरी खुराक मिली। .

टीकाकरण अभियान के तीसरे चरण की शुरुआत के बाद से इस आयु वर्ग के कुल 1,66,47,122 लाभार्थियों का टीकाकरण किया गया है।

बिहार, गुजरात , मध्य प्रदेश, राजस्थान और उत्तर प्रदेश ने 18-44 वर्ष आयु वर्ग के 10 लाख से अधिक लाभार्थियों को एंटी-कोरोनावायरस वैक्सीन की पहली खुराक दी है।

एक 7 के अनुसार, देश में प्रशासित COVID-19 वैक्सीन खुराक की संचयी संख्या 20,86,12,834 थी। अपराह्न अनंतिम रिपोर्ट

इसमें 98,44,619 स्वास्थ्य कार्यकर्ता और 1,54,41,200 फ्रंटलाइन वर्कर शामिल हैं, जिन्हें पहली खुराक मिली है, 67,58,839 हेल्थकेयर वर्कर और 84,47,103 फ्रंटलाइन वर्कर जिन्होंने दवा ली है। दोनों खुराक। साथ ही 18-44 आयु वर्ग के 1,66,47,122 लाभार्थियों को पहली खुराक मिली है और एक ही समूह के 275 लोगों को दोनों जाब्स मिले हैं।

इसके अलावा 6,44,71,232 और 1,03,37,925 आयु वर्ग के 45 से 60 वर्ष के लाभार्थियों को क्रमशः पहली और दूसरी खुराक दी गई है। साथ ही 5,81,23,297 वरिष्ठ नागरिकों और 1,85,41,222 ऐसे लाभार्थियों को क्रमश: पहली और दूसरी खुराक मिली है।

टीकाकरण अभियान के 133वें दिन तक, 28,07,411 खुराकें दी गईं, जिनमें से 25,99,754 लाभार्थियों को पहली खुराक और 2,07,657 को दूसरी खुराक दी गई। अनंतिम रिपोर्ट के अनुसार, मंत्रालय ने कहा कि दिन के लिए अंतिम रिपोर्ट जोड़ने का काम देर रात तक पूरा कर लिया जाएगा।

देश में सबसे कमजोर जनसंख्या समूहों को COVID-19 से बचाने के लिए एक उपकरण के रूप में टीकाकरण अभ्यास की नियमित रूप से समीक्षा की जाती है और उच्चतम स्तर पर निगरानी की जाती है, स्वास्थ्य मंत्रालय ने रेखांकित किया।

अधिक पढ़ें

टैग

dainikpatrika

कृपया टिप्पणी करें

Click here to post a comment